Ghazal #6


बे-रंग ज़िन्दगी पे होता रहा मलाल
इक रोज़ हमने उसपे ढ़ंग से रंगा गुलाल
Be-rang zindagi pe hota raha malaal
Ik roz hmne uspe dhaNg se raNga gulaal

आँसू का रंग देखा बादल ने एक रोज़
बादल से तब से अब तक बरसा किया गुलाल
aaNsu ka raNg dekha baadal ne ek roz
baadal se tab se ab tak barsa kia gulaal

हर रंग है बरसता आँखों से मेरे हरदम
आँखों में मेरे अब तक कम ना हुआ गुलाल
har raNg hai barsta aaNkhoN se mere hardam
aaNkhoN se mere ab tak kam na hua gulaal

सूरज की लालिमा भी कुछ बे-सबब नहीं
शब भर जो हमने चांद पे ऐसा मला गुलाल
sooraj ki lalima bhi kuch besabab nhiN
shab bhr jo hmne chaNd pe esa mala gulaal

होली रही महकती सिमइयों की ख़ुशबुओं से
मोहर्रम पे भी तो अब के जम के उड़ा गुलाल
holi rhi mehkti siwaayiyoN ki khushbuoN se
mohrram pe bhi to ab k jam k uda gulaal


This Ghazal was submitted to ‘Inter IIT Cultural Meet, Kanpur (28th-30th December, 2017) in Hindi Poetry Slam. ‘Gulaal’ was the theme given to every IIT. I represented IIT Guwahati and submitted this and one more Ghazal on the open theme. This poem was the only entry in the Ghazal form among 17 IITs and 34 entries which surprised me a bit. However that’s different thing that we could not win the competition.

Let me know your opinion about this one in the comment section.

Advertisements

Ghazal #5


ऐसा है हाल ए दिल के अब रहा नहीं जाता
ज़ब्र ए ज़ब्त तो देखो कि कहा नहीं जाता

और कितनी सांसों की गुंज़ाइश है मुझमें
या ख़ुदा ये दर्द अब सहा नहीं जाता

लाओ भले लहर या फिर सैलाब ले आओ
बहा नहीं जाता तो फिर बहा नही जाता

दूसरी मोहब्बत में होता ही यही है
गले लगाया जाता है चाहा नहीं जाता


ज़ब्र ए ज़ब्त = compulsion of self-control

सैलाब = flood